समाजवादी परिवार में भाजपाई सेंध “अपर्णा यादव”बीजेपी में शामिल

Share

बीजेपी में शामिल हुई मुलायम सिंह की छोटी बहु “अपर्णा यादव”

उत्तर प्रदेश में चुनावी हलचल तेज होने के साथ ही चुनाव से पहले दलबदल का खेल भी जारी है। ऐसे में बुधवार को सपा संरक्षक मुलायम सिंह की छोटी बहु अपर्णा यादव बीजेपी में शामिल हो गई। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने उन्हे बीजेपी में सामिल कराया, इस मौके पर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या भी वहा मौजूद रहे।

बीजेपी में सामिल होने के बाद अपर्णा यादव ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की और बीजेपी का धन्यवाद करते कहा कि- मैं हमेशा से पीएम मोदी से प्रभावित रही हु। राष्ट्र मेरे लिए सबसे पहले है, मैं अब राष्ट्र की आराधना करने निकली हु जिसमे मुझे सब का सहयोग चाहिए साथ ही अपर्णा ने प्रधानमंत्री द्वारा चलाए गए स्वच्छ भारत अभियान,महिलाओं रोजगार आदि के लिए चलाई गई योजनाओं को तारीफ की।

Screenshot 20220119 220617 1
News nation

विधानसभा चुनाव से पहले दोनो पार्टियों में सरगर्मी तेज हो गई है। बता दे कि बीते कुछ दिनों में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने योगी सरकार में मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्या समेत दर्जनभर विधायको को बीजेपी से निकाल सपा में सामिल कराया, जिसे सपा के लिए बड़ी कामयाबी मानी जा रही थी, लेकिन इनसब के बीच बीजेपी भी चुप नही रही और सपा संरक्षक मुलायम सिंह के घर में ही सेंधमारी कर दी।

बता दे कि सियासी गलियारों में लंबे समय से चर्चा थी कि अपर्णा समाजवादी पार्टी से नाराज चल रही थी। वजह लखनऊ कैंट सीट से टिकट न मिलना बताया जा रहा था। अपर्णा यादव ने 2017 विधानसभा चुनाव में सपा सीट पर लखनऊ कैंट से चुनाव लड़ा था। जिसमे बीजेपी प्रत्याशी रीता बहुगुणा जोशी से हार गई थी।

रीता बहुगुणा जोशी के सांसद बनने के बाद इस खाली सीट पर 2019 में उपचुनाव हुए थे, जिसमे भाजपा से सुरेश चंद तिवारी ने जीत हासिल की थी। रीता बहुगुणा जोशी ने इस सीट पर अपने बेटे के लिए टिकट की मांग कर रही है। खबर है इस सीट के लिए कई उम्मीदवार भी कतार में है।

अपर्णा यादव बिष्ट मुलायम सिंह यादव की दूसरी पत्नी साधना यादव के बेटे प्रतीक यादव की पत्नी है। अपर्णा के पिता अरविंद बिष्ट एक पत्रकार रहे है और मां अंबी बिष्ट लखनऊ नगर निगम में अधिकारी है। अपर्णा ने 2017 में लखनऊ कैंट से सपा सीट पर चुनाव लड़ा था जिसमे इन्हे हार का सामना करना पड़ा था।

Leave a Comment