सीएम योगी आदित्यनाथ और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एक दूसरे पर की पलटवार।

Share

सीएम योगी आदित्यनाथ और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एक दूसरे पर की पलटवार ।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मुजफ्फरपुर में पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि जिस तरह यूपी से भाजपा ने योगी जी को पलायन कर दिया। उन्हे घर भेज दिया। उसी तरह यूपी से भाजपा का राजनीतिक पलायन भी तय हो गया है। अखिलेश यादव ने कर्मचारियों को सावधान रहने की बात कहीं, चुनाव आयोग में भी कर्मचारियों पर दबाव डालने का मुद्दा रखा जाएगा । वेस्ट यूपी को लखनऊ से जुड़ने के लिए एक्सप्रेसवे बनाया जाएगा ।15 दिन के भीतर किसानों को गन्ने के भुगतान में मदद करेगी गठबंधन की सरकार ।

सियासी गलियारों में भी सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के ट्वीट ने शोर मचा दी ।अखिलेश ने कहा कि मेरे हेलीकॉप्टर को बिना किसी कारण दिल्ली में रोक कर रखा गया हैं। जिससे मैं मुजफ्फरपुर ना जा सकूं ।जबकि अभी-अभी भाजपा के एक नेता यहां से उड़े हैं । हारते हुए भाजपा की यह साजिश है, उन्हें हारने का डर सता रहा है।

वही अखिलेश यादव और रालोद ने अन्य संकल्प ली। चौधरी जयंत सिंह ने कहा यह गठबंधन की सरकार यूपी का विकास चाहती है भाजपा विकास और भाईचारे की बात नहीं करती। वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा पर वार करते हुए कहा कि वे जिन्ना के उपासक है, हम पटेल के पुजारी हैं। हम भारत मां पर अपनी जान तक निछावर करते हैं ,उन्हें पाकिस्तान प्यारा हैं ।

मेरठ में प्रचार कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि यह डबल इंजन की सरकार है। जनता के हितों के लिए काम कर रही है। वह दंगाइयों का सफाया कर रही है। अपराधी जेल जा रहे हैं ,गरीबों का शोषण नहीं हो रहा है। अखिलेश ने तंज कसते हुए कहा, जो कहते थे मथुरा से चुनाव लड़ेंगे, प्रयागराज से चुनाव लड़ेंगे ,अयोध्या से चुनाव लड़ेंगे ,भाजपा ने उन्हें अपने घर वापस गोरखपुर भेज दिया ।मुझे खुशी है इस बात से कि योगी को भाजपा अपना सदस्य नहीं मानती ,इसलिए उन्हें अपने घर वापस भेज दिया गया।

जो सीएम अपने क्षेत्र गोरखपुर में मेट्रो ना चला सका, शिविर का काम न करा पाए, जो बिजली महंगा कर दे, जनता उससे उम्मीद ही क्या करेगी। अखिलेश ने कहा मेरे साथ यूपी की 80 फ़ीसदी जनता है ।इस बार जनता ने सरकार बदलने का पूरा ठान लिया है, समाजवादी पार्टी प्रोग्रेसिव पॉलिटिक्स कर रही है।

Leave a Comment