गंगा जल पर बडा़ संकट

Share

काशी की घाटोंं से दूर हुआ गंगा जल , शैवालोंं ने बनाया नदी में बसेरा ।

शिवप्रिया गंगा का शिव की काशी में ही बुरा हाल देखने को मिल रहा है । वाराणसी में अब गंगा का जल स्तर काफी गिर गया है । गंगा जल अब काशी के घाटोंं से दूर हो गया है स्थिति यह है कि अस्सी से आदिकेशव घाट के बीच में जगह – जगह रेत के टीले दिखने लगे हैं ।
पिछले15दिनों से जल स्तर में दो से ढाई फीट की कमी दर्ज की गई है । नदी में जल प्रवाह भी बहुत धीमी गति से हो रहा है जिस कारण जल में बदबू उठने लगी है जिसने स्थानीय लोगोंं की चिंता बढा़ दी है ।अस्सी घाट पर गंगा सीढ़ियों से करीब 65 फीट दूर बह रही है।

Screenshot 20210527 105954 Public

गंगा जल में चारों ओर फैले दिखे शैवाल

गंगा जल प्रवाह काफी धीमा हो गया है जिसके कारण जल में शैवालों की संख्या बहुत बढ़ गयी है । नदी वैज्ञानिक प्रो ० बीडी ० त्रिपाठी का कहना है कि गंगा के घाटों का छोड़ना , शैवाल का मिलना इस बात का प्रमाण है कि नदी का प्रवाह बेहद कम हो गया है ।इससे ऑक्सीजन का स्तर भी गिर गया है जो गंगा में रहने वाले जलीय जीवों के लिए भी खतरा है ।

Screenshot 20210527 105941 Public

गंगा के प्रवाह कम होने के पीछे बड़ी वजह गंगा पर बने बांध ,लिफ्ट कैनाल और भूजल रिचार्ज के लिए पानी का जमीन के अंदर जाना बताया जा रहा है ।

गंगा के जीवन के लिए अविरलता जरूरी

कल – कल छल – छल बहती , क्या कहती गंगा जल धारा । गंगा के निरंतर प्रवाहित होने वाली निर्मल पावन धारा ने अनेक कवियों को भाव विभोर किया । अपने अंदर भारत के संस्कृति , सभ्यता को समेट हुई बहने वाली मां गंगा का प्रवाह आज थम रहा है । जो माँ गंगा के जीवन पर संकट खड़ा कर रहा है । प्रवाह के रुकने से प्रदूषण बढ़ रहा है ।

प्रदूषण का दुष्प्रभाव बहुत ही भयावह होगा । जल का ऑक्सीजन कम हो रहा है देश के लगभग40 % लोगोंं के लिए गंगा का पानी ही जल का प्रमुख स्रोत है । जल में प्रदुषण बढ़ने से वो लोग सीधे प्रभावित होंगे ।

जल में जो जीव है उनपर भी प्रदूषण का नकारात्मक असर होगा और उन्हें खाने वालों को भी गंभीर बीमारियों की संभावना है

नमामि गंगे वाराणसी के संयोजक राजेश शुक्ला ने बताया कि गंगा का प्रवाह प्रदूषण को रोकता है । यदि गंगा निरन्तर प्रवाहित होती रहेंगी तो शैवाल या कोई भी वस्तु उनके जल के साथ भी बह जाएगी। जिससे प्रदूषण कम होगा । उन्होंने ने नमामि गंगे राष्ट्रीय मिशन से पूरे काशी के ओर से अपील की कि गंगा के प्रवाह को निरन्तर बनाये रखने के लिए शीघ्र कदम उठाया जाए ।

बात दे कि नमामि गंगे गंगा को स्वच्छता करने के लिए मोदी सरकार द्वारा चलाया गया कार्यक्रम है ।

इसे भी पढ़िए…. दुनिया के सबसे तेज नेटवर्क को जिओ फाइबर देगा टक्कर Starlink VS Jio fiber

Leave a Comment