कामनवेल्थ गेम्स के आठवें दिन बरसे पदक

Share

राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीतने का सिलसिला जारी

कॉमनवेल्थ गेम्स के आठवें दिन भारत के खिलाड़ियों ने कई पदक जीते, मानो पदको की बारिश जैसे करा दी हो।भारतीय खिलाड़ियों ने भारत को दिलाया एक दिन में सात पदक।

बर्मिंघम में चल रहे हैं राष्ट्रमंडल खेलों के आठवें दिन भारतीय खिलाड़ियों का दबदबा अभी भी बरकार है। शुक्रवार को भारतीय पहलवानों ने दमदार प्रदर्शन करते हुए तीन स्वर्ण एक रजत और दो कांस्य पदक जीते। वही भारत के पैरा पावर पावर लिफ्टर सुधीर ने पुरुष हैवीवेट वर्ग में शानदार प्रदर्शन करते हुए एक और स्वर्ण पदक दिलाया।

हरियाणा के पहलवान बजरंग पुनिया, दीपक पुनिया और साक्षी मलिक ने स्वर्ण पदक जीते, वही पहलवान अंशु मालिक पदार्पण करते हुए रजत पदक जीतने में सफलता प्राप्त की। साथ अन्य पहलवानों में दिव्या काकरान और मोहित अग्रवाल ने अपने अपने वर्ग में कांस्य पदक जीते। इस तरह कुस्ती में कुल 6 पदक जीते गए।

बजरंग का 65 किलो वर्ग में इतना दबदबा रहा की चार में से तीन मुकाबले जीते। उन्होंने फाइनल में कनाडा के लचलान मैकनील को 9-2 से हराकर पदक अपने नाम किया।

साक्षी मलिक ने 62 किलो वर्ग फाइनल में कनाडा के एना गोंडिनेज गोंजालेंस को हराकर अपना जीत दर्ज किया। साक्षी का कॉमनवेल्थ गेम्स में पहला स्वर्ण जीता है इससे पहले वो रजत और कांस्य पदक जीत चुकी है। दीपक पुनिया ने 86 किलो फ्रीस्टाइल वर्ग में पाकिस्तान के मुहम्मद इनाम को चित करके स्वर्ण जीता। उन्होंने पाकिस्तान को 3-0 से हराया।

रजत पदक जीतने वाली अंशु मलिक ने 57 किलो फ्रीस्टाइल वर्ग के फाइनल में नरजीरिया को 7-3 हराकर जीत हासिल की। साथ ही मोहित ने पुरुष 125 किलो फ्री स्टाइल वर्ग में जमैका अरोन जॉनसन को और दिव्या ने महिलाओं के 68 किलो में लिली कोकेर लेमली को हराकर कांस्य पदक अपने नाम किया।

पावरलिफ्टर सुधीर ने रचा इतिहास

इसे भी पढ़ें – कॉमनवेल्थ खेलों के बाद ओलम्पिक में भी सामिल होगा क्रिकेट, आईओसी कर रही समीक्षा

गुरुवार को भारत के सुधीर ने पैरा पावरलिफ्टर स्पर्धा में पुरुष हैवीवेट वर्ग के फाइनल में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया। सुधीर कॉमनवेल्थ गेम्स के पैरा पावरलिफ्टर स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी है। इससे पहले 2014 में पावरलिफ्टर सकीना खातून ने कास्य पदक जीता था।

उन्होंने अपने पहले प्रयास में 208 किलो और दूसरे प्रयास में 212 किलो भार उठाकर यह पदक जीता।हालाकि अपने आखिरी प्रयास में 217 किलो वजन उठाने में नाकाम रहे लेकिन 134.5 के साथ सुधीर ने रिकॉर्ड कायम किया।

अन्य खिलाड़ियो ने पदक किया पक्का

राष्ट्रमंडल खेलों में भारतीयों का पदक जीतना का सिलसिला जारी है। भारत के टेबल टेनिस खिलाड़ी ने अच्छा प्रदर्शन करते हुए मनिका बत्रा और श्रीजा अकुला ने अपने सिंगल मुकाबले के फाइनल में जगह बनाई। साथ ही भारत की दिग्गज बैतमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने महिला वर्ग में और किदांबी श्रीकांत ने पुरुष वर्ग में फाइनल में प्रवेश किया। इसके साथ अन्य खिलाड़ियों पर भारत की निगाहे टिकी हुई है।

इसे भी पढ़ें – कांग्रेस ने काले कपडे़ में किया मंहगाई और बेरोजगारी का विरोध

 73 Views