मुख्यमंत्री के निर्देश से सख्त दिखा प्रशासन

Share

वाराणसी/अस्सीघाट : बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दौरे और निर्देश का असर दिख रहा है। अस्सी के गोयनका संस्कृत महाविद्यालय राहत केंद्र में बाढ़ प्रभावितों को राहत कीट , डिग्निटी कीट , सुबह का नाश्ता , दोपहर और रात खाना दिया जा रहा है । 14 साल के बच्चों को दूध और छोटे शिशुओं के लिए डायपर की भी व्यवस्था है । दिन में दो बार राहत केंद्र में सफाई कराई जाती है । महिलाओं की सुरक्षा के लिए दो महिला पुलिसकर्मी भी तैनात हैं ।

IMG 20220902 WA0004
Thewebnews

राहत शिविर में मौके पर मौजूद अधिकारियों ने बताया कि यहाँ पीड़ितों को सभी प्रकार की सुविधाएं दी जा रही है । सुबह चाय, बिस्किट , ब्रेड , दूध तो दोपहर और रात को रोज अगल – अगल भोजन दिया जाता है । कल रात में कड़ी चावल दिया गया और आज पूरी सब्जी बनेगा । दिन में दो बार नगर निगम की ओर से धुंए से  सेनिटाइजेन कराया जा रहा है ।

नागरिक सुरक्षा सोसायटी से निःस्वार्थ भाव से  पीड़ितों की सेवा में लगी सुरैया बनो ने बताया कि वो पिछले दस दिन से यहाँ है और अपनी सेवा दे रही है । यहाँ शुरू से ही अच्छी व्यवस्था दी जा रही है । मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद अधिकारी  और बेहतर ढंग से काम कर रहे हैं । यहाँ अधिकारियों का दौरा होता रहता है ।

शिविर में सेवा दे रहे डॉक्टर रमेशचंद्र ने बताया कि यहाँ सफाई पर पूरा ध्यान दिया जा रहा है । लोग कम बीमार पड़ रहे हैं । रोज अमूमन 15 से 16 लोगों को दवा दिया जाता है । पीडितों में खाँसी , बुखार जैसे मामूली समस्याए हो रही है । जिसके लिए उन्हें पैरासिटामोल , सिटीजिंन ,डायगलो जैसे साधारण दवाएं दी जा रही है ।

बाहर हो रही सफाई अंदर आज झाड़ू तक नही लगा

अधिकारियों में बताया कि सुबह शाम पूरी सफाई की जाती है । लेकिन मौके पर प्रभावितों से पूछने पर पता चला कि आज झाड़ू भी नहीं लगा है । हालांकि उन्होंने बताया कि रोज बाहर अच्छे से सफाई की जाती है ।यहाँ यहां सफाई रहती है । अधिकारियों में बताया कि लुलारक मेला के कारण नगर निगम के कर्मचारी उधरी व्यस्त हैं ।  इस लिए आज झाड़ू नहीं लग सका है ।

हरी बाल्टी की राह देख रही किशोरियां


प्रदेश सरकार  महिलाओं के स्वास्थ्य को देखते हुए राहत शिविरों में डिग्निटी किट का वितरण कर रही है । गोयनका राहत  शिविर में कुछ किशोरियों को कीट मिली है । कुछ अभी भी राह देख रही है । एक पीडितों ने बताया कि  अभी तक सबको कीट नहीं मिला है । मेरा मासिकचक्र अभी चल रहा है । ऐसे में मुझे सैनेटरी पैड लेने बाहर जाना पड़ रहा है या फिर मजबूरन कपड़ा इस्तेमाल करना पड़ रहा है ।
अधिकारियों से पूछने पर  उनका कहना है  कि सरकार  की ओर से 80 बाल्टियां आयी थी । उसमें से 35 का वितरण हो चुका है । और लोगों की लिस्ट तैयार की जा रही है । उन्हें जल्द कीट दिया जाएगा । कीट केवल 18 से 50 वर्ष की औरतों को ही दिया जाना है ।

कल हुआ था ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव

गंगा अब घटाव की ओर है । जिससे सड़कों पर गाज और कचरा जमा हो गया है । बुधवार को मुख्यमंत्री ने उसपर ब्लीचिंग पाउडर के छिड़काव का निर्देश दिया था । स्थानीय लोगों ने बताया कि कल जब योगी आदित्यनाथ आये थे तब छिड़काव किया गया था । आज सुबह से शाम हो गयी कोई छिड़काव नहीं हुआ है ।

 77 Views