यूपी सरकार के फैसले का इंतजार

Share

यूपी पंचायत चुनाव में कोरोना के कारण जिन कर्मचारियों की मौत हुई उनके परिवारों के लिए सरकार से मुआवजा और रोजगार मांग

यूपी सरकार से राज्य चुनाव आयोग ने यूपी पंचायत चुनाव में ड्यूटी के दौरान जो कर्मचारी कोरोना से संक्रमित हुए और उनकी मौत हो गयी ऐसे शिक्षको , शिक्षामित्रों, अनुदेशकों , रोज़गार सेवकों पुलिसकर्मियों व प्रत्येक कर्मचारियों के परिजनों को मुआवजा और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने की संस्तुति की है ।

20180217100

पिछले कई दिनों से पंचायत चुनाव के कारण हुए मौत को लेकर बवाल चल रहा है विपक्षी सरकार पर निशाना साधे हुए है ऐसे में चुनाव आयोग के इस संस्तुति पर सरकार के कार्यवाही का सबको इंतजार है ।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा है कि उनकी हर सम्भव सहायता की जाएगी ।

सरकारी आकड़ो में केवल तीन शिक्षकों की मृत्यु

उत्तर प्रदेश का पंचायत चुनाव उत्तर प्रदेश के लिए काल साबित हुआ है । पंचायत चुनाव में ड्यूटी कर रहे शिक्षामित्रों , पुलिस कर्मचारी , शिक्षकों की मौत की खबरें हर जगह देखने को मिल रही हैं । लगभग 1621 कर्मचारियों की चुनाव में ड्यूटी के दौरान कोरोना के चपेट में आने से मृत्यु हो गयी । उत्तर प्रदेश के बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी ने इन खबरों को गलत ठहराते हुए कहा कि स्थापित मानकों के हिसाब से देखें तो चुनाव ड्यूटी के दौरान सिर्फ तीन शिक्षकों की मौत हुई है जबकि उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष दिनेश चंद्र शर्मा ने 16 मई को मुख्यमंत्री को एक पत्र लिखकर कहा है कि सभी 75 जिलों में पंचायत चुनाव ड्यूटी करने वाले 1621 शिक्षकों, अनुदेशकों, शिक्षा मित्रों और कर्मचारियों की कोरोना के संक्रमण से मौत हुई है ।

Leave a Comment